फाइनेंस क्या होता है

फाइनेंस क्या होता है | Finance Meaning in Hindi 2022| फाइनेंस किसे कहते है

फाइनेंस क्या होता है, Finance Meaning in Hindi, Type Of Finance, Full Form of Finance, फाइनेंस किसे कहते है, फाइनेंस कितने प्रकार का होता है, फाइनेंस शब्द क्या है, फाइनेंस का क्या मतलब होता है.

फाइनेंस क्या होता है : Finance Meaning in Hindi :  Finance एक ऐसा शब्द है जिससे हम प्रतिदिन परिचित होते है और किसी न किसी प्रकार से इसको सुना जाता है. लेकिन क्या आप जानते है कि फाइनेंस क्या होता है? फाइनेंस शब्द कहा से आया है और फाइनेंस का उपयोग कहाँ किया जाता है? अक्सर कभी कभी हमारे मन में कुछ ऐसे शब्द आते है जिनका हमारे जीवन से अत्यधिक जुडाव होता है लेकिन हम उनके बारे में नहीं जानते है ऐसा ही एक शब्द है Finance. फाइनेंस शब्द का मतलब जानने के लिए हम गूगल पर सर्च करते है कि फाइनेंस किसे कहते है? या फाइनेंस का मतलब क्या है?

तो आज हम इस आर्टिकल में Finance के बारे में विस्तार पूर्वक जानने वाले है और हम Finance की definition और फाइनेंस शब्द के उपयोग  इसके महत्त्व के बारे में जानेंगे.

फाइनेंस को हिंदी में क्या कहते है? | फाइनेंस क्या होता है?

Finance को हिंदी में क्या कहा जाता है? अब हम यह जानते है. आज हमारे द्वारा इस्तेमाल किये जाने वाले कई शब्द French या Latin भाषा से निकले हुए है और दुनिया की सभी भाषाओ में कई शब्द इन भाषा के पाए जाते है. फाइनेंस शब्द भी फ्रेच (French) भाषा से लिया गया है. फाइनेंस शब्द का हिंदी मतलब होता है वित्त.

अपनी आम जिन्दगी में हम अक्सर या कहे रोज इस शब्द से परचित होते है, जैसे फाइनेंस मिनिस्टर, कार का फाइनेंस, फाइनेंस कंपनी, फाइनेंस डिपार्टमेंट, फाइनेंस एडवाइजर आदि.

फाइनेंस शब्द के उत्पत्ति  18वीं शताब्दी में मानी जाती है और अर्थशास्त्र का अध्ययन करने वाले व्यक्ति को फाइनेंस के बारे अत्यधिक जानकारी होती है. फाइनेंस शब्द किसी भी कार्य को करने के लिए वित्तीय प्रबंधन को दर्शाता है. घर हो या कंपनी या फिर देश सभी के सञ्चालन के लिए वित्त की आवश्यकता होती है. और वित्त का मतलब पैसे या धन से होता है जिसका पप्रबंध करना वित्तीय प्रबंध कहलाता है.

Finance Meaning in Hindi

Finance Meaning in Hindi: जैसा कि हम ऊपर बता चुके है कि बिना वित्तीय प्रबंधन के किसी कार्य को करना जिसमे आर्थिक जरूरत हो असम्भव है. बिना फाइनेंस की जानकारी के आप व्यापार का संचालन सुचारू रूप से नहीं कर सकते. कोई भी सरकार हो वित्त के बिना वह कई सामाजिक कार्य को नहीं कर सकती है. इसीलिए पैसो के प्रबंध करने के लिए लोग कार्य करते है सरकार टैक्स के द्वारा या अन्य फण्ड के द्वारा पैसो का इंतजाम करती है.

लेकिन जब किसी आर्थिक उद्देश्य को हासिल करने के लिए पैसो का प्रबंध करने के लिए लोन लिया जाता है जिसपर ब्याज देना पड़ता है तो इसे फाइनेंसिंग कहा जाता है.

Myloanoffer.netBharat Pe Loan Kaise Le

Myloanoffer.netUjjivan Bank Personal Loan

फाइनेंस क्या है? (What is Finance in Hindi)

सामान्यतः फाइनेंस शब्द का उपयोग किसी कंपनी या बिज़नेस से होता है. जब भी किसी कंपनी या व्यवसाय को शुरू किया जाता है तो उसको प्रारम्भ करने के लिए वित्त यानी धन की आवश्यकता होती है. मुद्रा के रूप धन या पूँजी अर्जित की जाती है जिससे उस ब्यवसाय की स्थापना और सञ्चालन किया जाता है. वित्त में बैंकिंग, निवेश, संपत्ति और देनदारियो को शामिल किया जाता है.

वित्त उस विज्ञान की श्रेणी में आता है जिसके अंतर्गत मुद्रा, धन, बैंकिंग, निवेश,संपत्तियों,और देनदारियों के निर्माण, प्रबंधन और अध्ययन का वर्णन किया जीता है.

फाइनेंस कितने प्रकार का होता है (Type of Finance)

फाइनेंस हर व्यवसाय के सबसे जरूरी है, क्योकि जैसे शरीर को जिन्दा रखने के लिए हवा जरूरी है वैसे ही व्यापार के लिए वित्त. वित्त को बिज़नेस की आत्मा कहा जाता है. वित्त के बिना कोई व्यापार संभव नहीं है. हा इसकी मात्रा बिज़नेस के अनुरूप काम या ज्यादा हो सकती है और इसका स्वरूप भी अलग-अलग हो सकता है.

वर्तमान में फाइनेंस को मुख्य 3 भागो में विभाजित किया गया है, जो निम्न है-

  1. व्यक्तिगत वित्त (Personal Finance)
  2. निगम वित्त (Corporate  Finance)
  3. लोक वित्त (Public Finance)

इस प्रकार वर्तमान समय में वित्त तीन भागो में बांटा गया है, इसको इसके कार्य और इसके प्रकृति के अनुसार विभाजित किया गया है. अब हम इन तीनो के बारे में विस्तृत चर्चा करेंगे.

Myloanoffer.netHero Housing Finance se Home Loan Kaise le

Myloanoffer.netKotak Mahindra Credit Card Status Check

Myloanoffer.netAxis Bank Se Home Loanकैसे ले

व्यक्तिगत वित्त किसे कहते है? (What Is Personal Finance)

Personal Finance को हिंदी में व्यक्तिगत वित्त कहा जाता है. Personal Finance के अंतर्गत व्यक्ति पैसो या धन के को नियंत्रित करने और उसको सँभालने तथा उपलब्ध धन का इस्तेमाल करने के तरीके को परिभाषित करता है. जिसे Personal Money Management या व्यक्तिगत वित्त प्रबंधन भी कहा जाता है. निजी वित्त प्रबंधन में किसी भी व्यक्ति के द्वारा अपने परिवार के बजट, बचत और खर्चो का प्रबंधन वित्तीय जोखिमो और भविष्य में आने वाली वित्तीय समस्याओ को नजर में रखते हुए अपने धन का प्रबंधन करता है.

निगन वित्त क्या है? (What is Corporate Finance)

Corporate Finance का हिंदी अर्थ होता है निगम वित्त. निगम वित्त के अंतर्गत किसी कंपनी, संगठन या समूह के वित्तीय लेनदेन के कार्यो को प्रदर्शित करता है. निगम वित्त का उद्देश्य संगठन के पास उपलब्ध पूँजी का उपयोग सही प्रकार से करने और उसको लाभ प्रद बनाना होता है. निगम वित्त वित्त का वह अंग है जो कंपनियों और संगठनो की फंडिंग तथा पूँजी के संरचना से संबध रखता है. Corporate Finance Management में पूँजी की संरचना से सम्बंधित निर्णय जिसमे कंपनी के वित्त पोषण के लिए पूँजी के श्रोतो की पहचान करना और उसकी लिए संबधित निर्णय लेना शामिल किया जाता है.

लोक वित्त क्या है? (What is Public Finance)

Public Finance का मतलब आम लोगो के कल्याण के लिए धन प्रबंधन से है. इसके तहत सार्वजानिक प्राधिकरण या सार्वजानिक निकायों द्वारा वित्त प्रबंधन के बारे में दर्शाता है. इसमें सरकार के द्वारा वित्तीय निर्णयों जिसमे पब्लिक के सरोकार से सम्बंधित निर्णयों को शामिल किया जाता है.

सार्वजानिक उपयोग की सेवाओ जैसे शिक्षा, स्वास्थ्य, परिवहन, सड़क, पानी, बिजली, बुनियादी ढांचा आदि को शामिल किया जाता है और इसपर होने वाले व्यय के साथ पूँजी के श्रोतो के बारे में भी निर्णय लिया जाता है ताकि लोक हित की सेवाओ को सुचारू रूप से चलाया जा सके.

फाइनेंस के बारे में जानकारी क्यों जरूरी है?

बिना वित्त के या धन के आज के इस आर्थिक युग में बहुत परशानी का सामना करना पड़ सकता है. आपको अपने घर को चलाने या व्यवसाय को स्थापित करने से लेकर उसके क्रियान्वयन के लिए वित्तीय जानकारी होना बहुत जरूरी है.

बिना फाइनेंस की जानकारी के आप व्यवसाय में सफल नहीं हो सकते है. आप चाहे नौकरी पेशा हो या कोई व्यापारी आपके इए वित्त प्रबंधन की जानकारी होना अति आवश्यक है. आज के समय में लोग घर बवाना हो, या कार लेना हो, मोबाइल लेना हो या किसी बिज़नेस को शुरू करना हो सबसे पहले फाइनेंस की तरफ देखते है और बाजार में आज के दौर में कई फाइनेंस कम्पनीज है जो वित्तीय प्रबंधन का कार्य करती है लेकिन आप उनसे सही फायद तभी उठा सकते है जब आपको फाइनेंस क्या होता है इसके बारे में सही जानकारी हो.

Myloanoffer.netSmartCoin App से Personal Loan कैसे ले

Myloanoffer.netNAVI App Loan Kaise le

Myloanoffer.netFlashCash App se Loan Kaise le

Finance और Loan में क्या अंतर है?

फाइनेंस और लोन में क्या अंतर है आइये यह जानते है. अक्सर लोग फाइनेंस और लोन को एक श्रेणी में रखते है जबकि इनमे काफी अंतर होता है आइये इस श्रेणी के माध्यम से समझते है.-

  • फाइनेंस के अंतर्गत किसी कार्य के लिए या वस्तु के लिए पूँजी का प्रबंध करना होता है जिसके बदले में आपको वह प्रदान की जाती है.
  • जबकि लोन में आपको नकद रूपये प्राप्त होते है.
  • फाइनेंस में आप धन के इस्तेमाल के लिए स्वतंत्र नहीं होते है लेकिन लोन में आपको यह स्वतंत्रता प्राप्त होती है.
  • फाइनेंस के लिए आपको किसी थर्ड पार्टी का सहारा लेने पड़ता है, लेकिन लोन में ऐसा नहीं है.

फाइनेंस कितने समय के लिए होता है?

फाइनेंस को समय के अनुसार चार भागो में वर्गीकृत किया गया है-

अल्पकालीन वित्त Short (Term Finance)

यह ऋण बहुत कम समय के लिए दिया जाता है जो कमसे कम एक महीने और अधितम 15 महीने तक हो सकता है. इसे अल्पकालिक वित्त भी कहा जाता है.

मध्यकालीन  वित्त (Medieval Finance)

इस ऋण के लिए समयावधि 15 महीने से 5 वर्ष तक होती है यह प्रॉपर्टी या उत्पाद आदि से सम्बंधित कार्य के इए दिया जाता है.

दीर्घकालीन वित्त (Long Term Finance)

परिसम्पतीयों के निर्माण से सम्बंधित कार्य के लिए यह फाइनेंस किया जाता है इसकी समय अवधि 5साल से अधिक होती है.

फाइनेंस का मतलब क्या होता है?

फाइनेंस का मतलब किसी कार्य को करने, कंपनी के प्रबंधन, सार्वजानिक व्यवस्था के संचलन और उत्पाद के लिए पूजी की जरूरत को पूरा और उसके प्रबंधन को फाइनेंस या वित्त कहते है.

फाइनेंस कितने प्रकार का होता है?

फाइनेंस मुख्य रूप से तीन प्रकार का होता है-
व्यक्तिगत वित्त (Personal Finance)
निगम वित्त (Corporate  Finance)
लोक वित्त (Public Finance)

फाइनेंस में क्या काम होता है?

फाइनेंस के अंतर्गत वित्तीय प्रबंधन, विपणन, और संरक्षण के बारे में जांनकारी प्राप्त की जाती है जोकि किसी संस्था, व्यक्ति और संगठन के लिए आक्सीजन का कार्य करती है.

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

x
Scroll to Top