किसान क्रेडिट कार्ड धारक की मृत्यु होने पर

किसान क्रेडिट कार्ड धारक की मृत्यु होने पर कर्ज होगा माफ़? जाने सरकार के नए नियम 2022

किसान क्रेडिट कार्ड धारक की मृत्यु होने पर क्या होगा, KCC लेने वाले की मौत होने पर कर्ज माफ़ हो जायेगा, केसीसी कार्ड धारक किसान की म्रत्यु होने पर क्या करे, Kisan card Dharak ki Mratyu hone par kya hoga, KCC Mafi Yojna kya hai, किसान क्रेडिट कार्ड धारक अपना कर्ज कैसे माफ़ करवाए?

किसान क्रेडिट कार्ड धारक की मृत्यु होने पर क्या कर्ज माफ़ हो जायेगा : KCC यानि किसान क्रेडिट कार्ड भारतीय किसानो की आय बढ़ाने और उनको सशक्त बनाने के उद्देश्य से 1998 में तत्कालीन वित्त मंत्री यशवंत सिन्हा के द्वारा इस योजना की शुरुआत की गयी थी. इस योजना के अंतर्गत बैंक की तरफ से किसानो को उनकी फसल की जरूरत को पोर करने के लिए सब्सिडी पर कर्ज मुहैय्या करवाया जाता है.

लेकिन कभी-कभी किसान अपने कर्ज को वपस नहीं कर पाते, जिसकी कई वजहे है. जिसके बारे में हम आगे बात करेंगे. अगर किसान क्रेडिट कार्ड धारक की म्रत्यु हो जाये तो क्या किसान के द्वारा लिया गया कर्ज बैंक के द्वारा या सरकार के द्वारा माफ़ कर दिया जाता है? अगर ऐसा होता है तो किस नियम के तहत होता है. और अगर ऐसा नहीं होता है तो इसके क्या कारण है आज हम KCC Loan से सम्बंधित इस पोस्ट में इस विषय पर जानकारी हाशिल करेंगे.

Myloanoffer.netआईडीबीआई बैंक किसान क्रेडिट कार्ड कैसे बनवाये

किसान क्रेडिट कार्ड [KCC] क्या है?

KCC Loan किसान के लिए सरकार की सब्सिडी के द्वारा प्रदान किया जाने वाला एक ऋण है जो सभी सरकारी और प्राइवेट बैंक प्रदान करती है. 1998 में किसान क्रेडिट कार्ड योजना की शुरुआत की गयी थी. KCC Scheme के तहत कोई भी किसान ₹5000 से लेकर ₹3,00,000 लाख तक ऋण प्राप्त कर सकता है. केसीसी लोन की ब्याज दर काफी कम होती है किसान को अपने ऋण के बदले 4% वार्षिक की दर से ब्याज देना पड़ता है. इसके अतिरिक्त किसान अपनी फसल का बीमा प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के अंतर्गत करवा सकते है अगर किसान के द्वारा उपजाई फसल बाढ़, सूखा या आग के कारण नष्ट हो जाती है तो उसको उसकी फसल का उचित दाम प्रदान किया जाता है.

Myloanoffer.netसर्व हरियाणा ग्रामीण बैंक किसान क्रेडिट कार्ड कैसे बनवाये

फसल बीमा के अतिरिक्त किसान क्रेडिट कार्ड योजना के अंतर्गत किसान का ₹50,000 का मुफ्त दुर्घटना बीमा भी किया जाता है अगर किसान क्रडिट कार्ड धारक की किसी दुर्घटना में म्रत्यु हो जाती है तो उसके बीमा की रकम को उसके लोन खाते में जमा कर दिया है और अगर उसका पैसा बचता है तो उसे परिजनों को दे दिया जाता है.

किसान क्रेडिट कार्ड के द्वारा प्रदान किया जाने वाला लोन अमाउंट

जैसा कि हम आपको ऊपर बता चुके है कि कोई भी जरूअत मंद किसान अपने फसल की जरूरत जैसे खाद, बीज, कटाई, बुआई के लिए आर्थिक KCC Loan के लिए Apply कर सकता है. यह लोन आपकी जोत के अनुसार प्रदान क्या जाता है. आपके पास कितना खेत है और आप उस खेत में क्या उगाते है इसको ध्यान में रखकर बैंक के द्वारा किसान कार्ड के लिए लोन दिया जाता है. आप किसान क्रेडिट कार्ड के माध्यम से 5 हजार से लेकर 3 लाख रुपये तक का लोन 4 प्रतिशत वर्षीक ब्याज दर पर ले सकते है.

Myloanoffer.netकेनरा बैंक किसान क्रेडिट कार्ड कैसे बनवाये

किसान कार्ड धारक की म्रत्यु होने पर क्या लोन माफ़ होगा?

कई लोगो में ऐसी एक भ्रांति फैली है कि अगर किसान क्रेडिट कार्ड लोन लेने वाले किसान की मौत हो गयी है तो उसका कर्ज बैंक के द्वारा माफ़ कर दिया जाता है, यह सरासर गलत है.अगर कोई किसान क्रेडिट कार्ड धारक जिसकी उम्र 70 वर्ष से कम है और उसकी सामान्य मौत हो जाती है तो ऐसी अवस्था में किसान के परिवार को बैंक की तरफ से कोई अतिरिक्त लाभ नहीं प्रदान किया जायेगा. हा अगर उसने जीवन ज्योति बीमा योजना की पालिसी ले राखी है तो उसे इसके तहत 2 लाख का लाभ प्रदान किया जायेगा.

परन्तु अगर केसीसी कार्ड धारक की म्रत्यु दुर्घटना में मौत हो जाती है तो इस अवस्था में किसान क्रेडिट कार्ड के धारक को [PAIS] पर्सनल एक्सीडेंट इंश्योरेंस के तहत 50 हजार का लाभ प्राप्त होता है. लोन लेने के समय बैंक के द्वारा आपको किसान दुर्घटना बीमा का लाभ स्वतः प्रदान कर दिया जाता है.

किसान क्रेडिट कार्ड धारक की म्रत्यु होने पर क्या होगा? नियम देखे!

अगर किसी किसान की जिसने बैंक के द्वारा खेती पर कर्ज ले रखा है उसकी मौत हो जाती है तो ऐसे अवस्था में जोभी उस किसान के उत्तराधिकारी होंगे उनको किसान के द्वारा लिया गया कर्ज चुकाना होगा. जिन भी लोगो को किसान की सम्पति का उत्तराधिकारी बनाया जायेगा बैंक उनसे कर्ज को चुकाने के लिए बाध्य कर सकती है.

लेकिन अगर परिवार में केवल एक ही व्यक्ति कमाने वाला था जिसकी मौत हो गयी है तो इसके लिए क्या होगा आइये इन बिन्दुओ से समझते है-

1 – CBIL विभाग को सूचित करना

अगर किसी भी प्रकार का लोन बैंक के द्वारा प्रदान किया जाता है तो इसकी सूचना सबसे पहले सिबिल विभाग को प्रदान की जाती है जहाँ किसी भी व्यक्ति के द्वारा लिए गए लोन, लोन इतिहास के बारे में पूरा ब्यौरा रखा जाता है. ताकि लोन लेने के दौरान लोन लेने वाले व्यक्ति के बारे लोन इतिहास को जाना जा सके.

अगर किसान के उत्तराधिकारी लोन अदा करने में कोताही बरतते है तो उनके सिबिल स्कोर को नकारत्मक दिखाया जाता है ताकि उनको भविष्य में लोना मिलने कठिनाई हो या लोन न मिल पाए.

2 – समझौता

बैंक लोन लेने वाले खातेदार की म्रत्यु की अवस्था में किसान के वंशज से संपर्क करती है और उनको लोन चुकाने के लिए कहती है. अगर किसान के उत्तराधिकारी लोन चुकाने के लिए कुछ छूट देने या समझौता करने के लिए कहते है तो बैंक इसके लिए राजी हो सकती है. बैंक समझौते के तहत कुछ रकम को छोड़ देती है और बाकी बची राशी को चुकाना पड़ता है.

3 – कानूनी प्रावधान

अगर बैंक के द्वारा किसान को प्रदान किया गया लोन किसी भी तरह से चुकाया नहीं जाता है तो बैंक अंत में कानूनी सहारा लेती है और अपने पास गिरवी राखीगयी जमीन को नीलाम करने की प्रक्रिया को शुरू करती है.

नीलामी प्रक्रिया के दौरान किसान की जमीन को बेच दिया जाता है और इससे बैंक अपने लोन को अदा करती है बाकि की बची रकम को किसान को दे दिया जाता है. अगर बैंक का कर्ज जमीन नीलाम करने से भी चुकता नहीं होता तो वह किसान की अन्य संपत्तियों को नीलाम करने का अधिकार भी रखती है.

कौन से कदम उठाना सही रहेगा?

अगर आपके घर में या आपके कोई जानने वाले किसान क्रेडिट कार्ड धारक की म्रत्यु हो जाती है तो आप बैंक को उसकी सूचना प्रदान करे. इससे बैंक को आप पर भरोसा कायम होगा और बैंक के कर्मचारी आपसे लोन चुकाने के लिए प्रेशर नहीं डालेंगे. अगर आपके पास पैसो की व्यवस्था है तो आप तुरंत ऋण चुकाने के लिए बैंक से संपर्क करे. बैंक आपके व्यवहार पर आपसे समझौते के लिए राजी हो जाएगी और आप कुछ रकम को बचा सकते है अगर आपके पास तुरंत पैसे नहीं है तो बैंक आपको लोन चुकाने के लिए कुछ समय की मोहलत भी प्रदान कर सकती है या आपसे किस्तों में लोन चुकाने के लिए भी कहा जा सकता है।

अगर किसी किसान की मृत्यु हो जाए तो उनके लोन का क्या होता है होते हैं बाकी पैसे किसे देने होते है?

अगर किसान क्रेडिट कार्ड धारक की मौत हो जाती है तो ऐसी स्थिति में किसान के उत्तराधिकारियों उस लोन को चुकाना होगा। अगर लोन लेते समय कोई सह आवेदक था तो उसको भी लोन चुकाने के लिए बाध्य किया जाता है, इनमे से किसी न किसी को ऋण चुकाना होगा।

किसान क्रेडिट कार्ड धारकों के लिए उपलब्ध आकस्मिक मृत्यु कवर क्या है?

किसान क्रेडिट कार्ड धारक को ऋण लेते समय आकस्मिक निधन पर बैंक के द्वारा एक बीमा पॉलिसी प्रदान की जाती है जिसमे 70 साल से कम आयु वाले व्यक्ति की मौत हो जाने पर 50000 का दुर्घटना बीमा कवर दिया जाता है, अगर बीमा धारक पूर्ण रूप से विकलांग हो जाता है तो उसे 25000 रुपए प्रदान किए जाते है।

किसान क्रेडिट कार्ड लोन न चुकाने पर क्या होता है?

KCC loan न चुका पाने पर आपको सरकार के द्वारा ब्याज पर मिलने वाली छूट समाप्त हो जाती है, जिसके फलस्वरूप आपको सामान्य ब्याज दर देनी पड़ती है। इसके अलावा अगर आप ज्यादा दिनों तक लोन अदा नहीं करते हो तो आपके द्वार या आपके पिता के द्वारा बैंक में गिरवी रखी गई जमीन को नीलाम करके ऋण की अदायगी की जाएगी।

किसान क्रेडिट कार्ड कब तक माफ होगा?

समय समय पर किसान क्रेडिट कार्ड के संबंध में ऋण माफ़ी होने की अफवाहें उड़ा करती है। लेकिन सरकार के द्वारा या बैंक के द्वारा किसान कार्ड लोन को माफ करने की कोई जानकारी सामने नहीं आई है। इसलिए आप अपने लोन को समय पर अदा करे और कम ब्याजदर का लाभ उठाएं।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

x
Scroll to Top